शिल्प मेला हिमाचली उत्पादों को विश्व स्तर पर नई पहचान दिलाने में सहायक होगाः मुख्यमंत्री

0
103

मेले से कला, संस्कृति एवं पर्यटन को व्यापक स्तर पर प्रदर्शित करने का मौका मिला

मुख्यमन्त्री जय राम ठाकुर ने आज सूरजकुंड अन्तरराष्ट्रीय शिल्प मेला-2020 के उद्घाटन अवसर पर कहा कि विश्व के इस सबसे बड़े शिल्प मेले में हिमाचल को ‘थीम राज्य’ बनने का विशेष सम्मान प्राप्त होने से प्रदेश की कला, संस्कृति एवं पर्यटन को व्यापक स्तर पर प्रदर्शित करने का अवसर प्राप्त हुआ है। यह मेला हिमाचल के उत्पादों को विश्व स्तर पर नई पहचान दिलाने में भी सहायक सिद्ध होगा।

राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने आज सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय शिल्प मेला-2020 का शुभारंभ किया, मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर इस अवसर पर विशेष रूप से उपस्थित थे। हरियाणा केे मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भी कार्यक्रम में मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय क्राफ्ट मेले के माध्यम से देश-विदेश के पर्यटकों को प्रदेश की संस्कृति में विविधता के बारे में जानकारी मिलेगी तथा शिल्पकारों, बुनकरों और कामगारों को सम्मान मिला है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले में भाग लेने का उद्देश्य हिमाचल के हथकरघा, हस्तशिल्प, फल उत्पाद, चाय, शहद, धातु शिल्प तथा व्यंजन आदि को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का मंच प्रदान करना और राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देना है। उन्होंने कहा कि पर्यटकों तथा अन्य लोगों की सुविधा के लिए चंडीगढ़ से शिमला के लिए हेलीकाप्टर सेवा शुरू की गई है तथा उड़ान योजना के अंतर्गत यह सेवा चंडीगढ़ से शिमला, शिमला से कुल्लू और शिमला से धर्मशाला के लिए चलाई जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल सरकार ने पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए हैलीपैड निर्माण तथा मौजूदा तीनों हवाई अड्डों के विस्तार को प्राथमिकता दी है। जिला मंडी के नागचला में प्रस्तावित ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट के लिए भारतीय विमानन प्राधिकरण के साथ 15 जनवरी, 2020 को समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं।

उन्होंने कहा कि हिमाचल सरकार पर्यटन क्षेत्र के विकास पर विशेष ध्यान दे रही है। साहसिक पर्यटन को बढ़ावा देते हुए पैराग्लाइडिंग के लिए जिला कांगड़ा के बीड़-बिलिंग में अधोसंरचना विकास पर जोर दिया गया है। इको-पर्यटन के लिए जिला मंडी का जंजैहली, स्कीइंग के लिए शिमला का चांशल और जल क्रीड़ा गतिविधियों के लिए पौंग, लारजी व तत्तापानी जलाशय का चयन किया गया है तथा इन क्षेत्रों में पर्यटन से संबन्धित अधोसंरचना के विकास के लिए धनराशि भी स्वीकृत की गई है।

उन्होंने कहा हिमाचल सरकार द्वारा ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा देने तथा स्वरोजगार के अवसर सृजित करने के लिए होम स्टे योजना तथा अनछुए क्ष्ेात्रों के विकास व नए पर्यटन गंतव्य तैयार करने के लिए ‘नई राहें, नई मंजिलें’ योजना शुरू की गई है।

जय राम ठाकुर ने कहा हिमाचल प्रदेश में ग्लोबल इन्वेस्टर्ज मीट का आयोजन किया गया, जिसमें सिर्फ पर्यटन क्षेत्र में ही 16 हजार करोड़ रूपये से अधिक निवेश के समझौता ज्ञापन हस्ताक्षरित किए गए हैं।

इससे पहले, मुख्यमन्त्री ने राष्ट्रपति का प्रवेश द्वार धन्तेश्वरी पर स्वागत किया और उन्हें हिमाचल की समृद्ध संस्कृति से अवगत करवाया।

इस अवसर पर सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मन्त्री महेन्द्र सिंह ठाकुर, शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मन्त्री विपिन सिंह परमार, वन परिवहन, युवा सेवाएं एवं खेल मन्त्री गोविन्द सिंह ठाकुर, मुख्यमन्त्री के प्रधान सचिव संजय कुंडू, मुख्यमंत्री के प्रधान निजी सचिव विनय सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव आर.डी. धीमान, निदेशक पर्यटन यूनुस तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

.0.