उद्योग मंत्री ने किया कांगड़ा ओद्यौगिक क्षेत्र का औचक निरीक्षण

168

कहा… ईज ऑफ डूंईंग बिजनेस से मिलेगा निवेश को प्रोत्साहन
धर्मशाला, 23 अक्तूबर: उद्योग एवं परिवहन मंत्री बिक्रम ठाकुर ने आज कांगड़ा ओद्यौगिक क्षेत्र के औचक किया और अधिकारियों को ओद्यौगिक क्षेत्र में मूलभूत सुविधाओं को सुदृढ़ करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने निवेशकों को आकर्षित करने के लिए औद्योगिक निवेश नीति को लागू किया है। प्रदेश में ईज ऑफ डूंईंग बिजनेस को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से डिजिटाईजड कर दिया गया है और स्वयं प्रमाणन को भी प्रोत्साहित किया गया है। उन्होंनेे कहा कि राज्य सरकार प्रदेश मंे उद्योग को बढ़ावा देने के लिए अपनी निवेश नीति के अंतर्गत लुभावने प्रोत्साहन उपलब्ध करवा रही है तथा प्रदेश को निवेश के लिए और अधिक आकर्षित एवं निवेश-मित्र बना रही है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश को आर्थिक रूप से समृद्ध बनाने के लिये युवाओं को स्वरोजगार अपनाने के लिये प्रशिक्षित करने हेतु प्रदेश सरकार द्वारा ठोस प्रयास किये जा रहे हैं। औद्योगिक विकास को गति देने के लिये नीतियों में परिवर्तन किया गया है। लघु व कुटीर उद्योगों को बढ़ावा देने के लिये अलग से नीति बनाई गई है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री दस्तकार प्रोत्साहन योजना जैसी योजनाओं के सकारात्मक परिणाम आने आरंभ हो गये हैं।
उद्योग मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री स्टार्ट-अप योजना के अन्तर्गत गत अढ़ाई वर्ष के दौरान 25 इनक्यूबेटी ने अपनी इन्क्यूबेशन अवधि पूरी कर स्टार्ट-अप व्यवसाय आरंभ किया है। इसके अलावा 54 इन्क्यूबेटी अभी इन्क्यूबेशन में हैं। इस योजना के अन्तर्गत 5.42 करोड़ रुपये इन्क्यूबेशन सेंटर स्थापित करने के लिये दिये जा चुके हैं तथा 95.45 लाख रुपये स्टार्ट-अप को प्रोत्साहन राशि के रूप में दिये गये हैं।
इस दौरान उद्योग मंत्री ने उद्योगपतियों की समस्यायें भी सुनीं। उन्होंने उद्योगपतियों की विभिन्न समस्याओं के हल के लिये सम्बन्धित अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिये।
इस अवसर पर पूर्व विधायक संजय चौधरी, सुरेन्द्र काकू, उपायुक्त राकेश कुमार प्रजापति, तथा गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।