जनता के मंच ने बनाया जयराम ठाकुर को काम मेें नंबर वन

118

जन –जन के जयराम, काम में नंबर वन

शिमला. हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर अपने सरल स्वभाव के कारण आम जन के बीच लोकप्रिय हुए हैं। उनकी लोकप्रियता प्रदेश के आम लोगों के बीच इसलिए भी बनी हैं कि मुख्यमंत्री बनने के बाद उनकी प्राथमिकता प्रदेश की जनता की समस्याओं को सुनना और उनको हल करना है। अपनी इसी प्राथमिकता के अनुसार काम करते हुए जयराम ठाकुर ने जनता की समस्याओं को सुनने और समाधान करने के लिए सरकारी सिस्टम में नए प्रयास शुरु किए। जिसमें सबसे पहला कार्य ही यह किया कि मुख्यमंत्री आवास और कार्यालय में आने वाले लोगों की समस्याओं को सुनने के लिए समय निर्धारित करना। मुख्यमंत्री जब शिमला में रहते हैं तो ओकओवर में सुबह लोगों की समस्याएं सुनते हैं और कार्यालय में आते हैं तो शाम को 3 बजे जनता से मिलते हैं और उनकी समस्याएं सुनते हैं। सभी समस्याओं का समाधान हो, इसके लिए आवास और कार्यालय में अलग से स्टाफ तैनात किया है जो जनता की समस्याओं से संबंधित आने वाले आवेदनों को संबंधित विभागों में भेजें और उनका समाधान करें। इसके साथ ही जनता की समस्याओं को उनके घर द्वार पर हल करने के लिए जनमंच नामक कार्यक्रम शुरु किया। जनमंच का आयोजन हर माह किया जाता है। जिसमें मुख्यमंत्री से लेकर मंत्री विधानसभा क्षेत्रों में एक निर्धारित स्थान पर जाकर दरबार लगाते हैं और जनता की समस्याओं को सुनकर समाधान करते हैं। जनमंच के अवसर में सरकार के मंत्रियों के साथ जिले के सभी विभागों के अधिकारी मौजूद होते हैं, जिससे सभी विभागों की समस्याओं का मौके पर समाधान किया जा सके। डिजिटल युग में लोगों की समस्याओं को फोन के माध्यम से हल करने के लिए भी मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन शुरु की गई। जिसके तहत फोन पर लोग 1100 नंबर डायल कर अपने समस्या की शिकायत कर सकते हैं। मुख्यमंत्री हेल्पलाइन में ऐसे सिस्टम डवलप किया गया है कि हर समस्या संबंधित विभाग को प्रेषित की जाती है और यह तय किया गया है कि विभाग के द्वारा इतने दिनों में समस्या का समाधान होगा। समस्या का समाधान होने पर शिकायत करने वाले को बताया जाता है कि उसकी समस्या का समाधान हो गया है। शिकायत करने वाला समाधान से संतुष्ट है तो शिकायत को बंद किया जाता है। इस तरह सभी प्रकार से जनता की समस्याओं का समाधान को प्राथमिकता देकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जनता के बीच लोक प्रिय हुए हैं। मुख्यमंत्री ने यह भी दिखाया है कि जब वह प्रदेश के दौरे पर जाता हैं और कोई उनके समक्ष समस्या लेकर आता है तो उसको सुनते हैं और तत्काल हल करने के आदेश अधिकारियों को देते हैं। जनता की समस्याओं के समाधान के साथ ही जयराम ठाकुर प्रदेश के हर विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्य कर रहे हैं। जिसके कारण ही एक सर्वे में जयराम ठाकुर को देश के बेहतर मुख्यमंत्री में शामिल किया गया है। इस तरह जनता की समस्याओं का समाधान करने और विकास के नए आयाम स्थापित करने के कारण मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर अब जन जन के जयराम के नाम से भी पहचाने जा रहे हैं।

राष्ट्रपति – प्रधानमंत्री से मिली शबाशी

मुख्यमंत्री ने कोविड काल में भी बेहतर प्रदर्शन किया है। जिसके लिए प्रधानमंत्री से लेकर राष्ट्रपति से भी बधाईयां मिल रही हैं। कोविड वैक्सीन के अभियान में प्रदेश सरकार ने बेहतर कार्य किया और कोविड वैक्सीन की पहली डोज 100 फीसदी लोगों को लगाने का लक्ष्य हासिल किया है। जिसमें प्रदेश देश में नंबर वन पर रहा है। कोविड वैक्सीन की पहली डोज के सौ फीसदी लक्ष्य हासिल करने पर प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने वैक्सीन संवाद कार्यक्रम के तहत प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के कार्य की सराहना की तो विधानसभा के विशेष सत्र में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी जयराम ठाकुर का शबाशी दी है।

नंबर वन परफॉर्मर मुख्यमंत्री जयराम

छोटे से पहाड़ी राज्य हिमाचल के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रदेश में विकास कार्य करने की दृष्टि से बड़े प्रदेशों को पछाड़कर नंबर वन का तगमा हासिल किया है। एक स्वतंत्र एजेंसी के सी वोटर सर्वे में देश के भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों में बेस्ट परफॉर्म जयराम ठाकुर पहले नंबर पर हैं। सर्वे में यह बताया गया है कि जयराम ठाकुर देश के सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्री में सातवें नंबर पर हैं। इस तरह मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने काम के दम पर यह नंबर वन का खिताब हासिल किया है।