नियमित होंगे सैनिक निगम के कर्मचारी: खुशहाल ठाकुर

344

हि.प्र.पूर्व सैनिक निगम के निदेशक मंडल की बैठक में लिए गए कई निर्णय
हिमाचल प्रदेश पूर्व सैनिक निगम के निदेशक मंडल की बैठक वीरवार को निगम के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक ब्रिगेडियर खुशहाल ठाकुर वाई.एस.एम. की अध्यक्षता में हुई, जिसमंे कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। इस बैठक में ब्रिगेडियर एलसी जसवाल, कर्नल दुनी सिंह जम्वाल, सैनिक कल्याण विभाग हमीरपुर के ओएसडी डाॅ. विक्रम महाजन, कृषि विभाग के उपनिदेशक डाॅ. जीत सिंह ठाकुर, जिला उद्योग केंद्र के महाप्रबंधक विजय कुमार चैधरी, पूर्व सैनिक निगम के सचिव हितेश लखनपाल और निगम के उप नियंत्रक (वित्त एवं लेखा) केवल कृष्ण भी उपस्थित रहे।
बैठक के दौरान ब्रिगेडियर खुशहाल ठाकुर ने निगम की एक वर्ष की उपलब्धियों का विस्तृत ब्यौरा पेश किया। इसके बाद निदेशक मंडल ने हिमाचल प्रदेश के पूर्व सैनिकों के कल्याण तथा आर्थिक उत्थान, सुरक्षा व अन्य सेवाओं में कार्यरत कर्मियों और निगम के कर्मचारियों के हितों से जुड़े कई अहम फैसले लिये जो कि काफी समय से लंबित थे। खुशहाल ठाकुर ने कहा कि कोरोना संकट से निपटने में निगम भी महत्वपूर्ण योगदान दे रही है। निगम की ओर से हिमाचल प्रदेश एसडीएमए कोविड-19 एसडीआर फंड में 51 लाख रुपये का आर्थिक योगदान दिया गया है। उन्होंने कहा कि निगम में अनुबंध के आधार पर कार्यरत कर्मचारियों और दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों की सेवाएं नियमित की जाएंगी। निदेशक मंडल के सदस्यों ने इन कर्मचारियों की सेवाएं नियमित करने और निगम के नियमित कर्मचारियों को मंहगाई भत्ते की किस्तें प्रदान करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। निगम की पूंजी को सरकारी सिक्यूरिटी गिल्ट फंड तथा आरबीआई बांड में निवेश को भी स्वीकृति प्रदान की गई, ताकि निगम को ब्याज से और ज्यादा आय हो सके। सुरक्षा कर्मियों व अन्य सेवाओं पर आउटसोर्स आधार पर कार्यरत कर्मियों को साज-सज्जा मुफत प्रदान करने का निर्णय भी लिया गया।
खुशहाल ठाकुर ने कहा कि सीमेंट की ढुलाई को आॅनलाईन करने के लिए निगम ने 17 जून से डिमांड मैनेजर ऐप लांच किया है। इस मोबाइल ऐप के माध्यम से ट्रक मालिक अब घर बैठे ही डिमांड में हिस्सा ले सकते हैं। अध्यक्ष ने कहा कि मांग आवंटन की प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी बनाई गई है। निदेशक मंडल के सभी सदस्यों ने इस ऐप की सराहना की।
ब्रिगेडियर खुशहाल ठाकुर ने कहा कि सेना में सेवायें देने के उपरांत जो जवान 35 से 40 वर्ष की आयु में घर आ जाता है रोजगार के अभाव में उसके लिए आगे का जीवन बड़ा मुश्किल हो जाता है। कई जवानों को सरकारी नौकरियों में 15 प्रतिशत कोटे का लाभ भी नहीं मिल पाता है। इसलिए निगम पूर्व सैनिकों के लिए रोजगार के अधिक से अधिक अवसर सृजित करने के लिए लगातार प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि पूर्व सैनिकों को विभिन्न प्रोजेक्टों, संस्थाओं, सरकारी विभागों, राज्य तथा केंद्र सरकार के उपक्रमों में सुरक्षा व अन्य सेवाओं में अधिक से अधिक संख्या में नियुक्त करने का प्रयास किया जाएगा।
इसके अलावा पूर्व सैनिकों के ट्रकों को विभिन्न सीमेंट फैक्टरियों, प्रोजैक्टों, तेल, क्लिंकर की ढुलाई का अधिक से अधिक कार्य दिलवाने के भरसक प्रयास किए जाएंगे। खुशहाल ठाकुर ने निदेशक मंडल के सभी सदस्यों और अधिकारियों का धन्यवाद किया और कहा कि राज्य सरकार और हिमाचल प्रदेश पूर्व सैनिक निगम पूर्व सैनिकों व उनके आश्रितों के कल्याण, विकास एवं आर्थिक उत्थान के लिये सदैव प्रयासरत रहेगी।
-0-
10 सितंबर तक बंद रहेगी नादौन-बेला-टिल्लू सड़क
सुदृढ़ीकरण एवं मरम्मत कार्य के कारण नादौन-बेला-टिल्लू सड़क पर वाहनों की आवाजाही 10 सितंबर तक बंद रहेगी। जिलाधीश हरिकेश मीणा ने इस संबंध में आदेश जारी किए हैं।
उन्होंने बताया कि नादौन-बेला-टिल्लू सड़क के सुदृढ़ीकरण एवं मरम्मत कार्य को सुचारू रूप से जारी रखने तथा इसे अतिशीघ्र पूरा करने के लिए इस मार्ग पर यातायात 10 सितंबर तक बंद किया जा रहा है। जिलाधीश ने कहा कि इस दौरान क्षेत्र के वाहन चालक वैकल्पिक रूट के रूप में नेशनल हाईवे-88 पर लेबर चैक से जीपीएस बेला तक आवाजाही कर सकते हैं। इसके अलावा जलाड़ी में नादौन-सुजानपुर सड़क के जंक्शन से या जीपीएस बेला से टिल्लू तक अथवा टिल्लू से सेरीकल्चर सेंटर वाया एसडीएम कालोनी मार्ग से भी आवाजाही की जा सकती है। जिलाधीश ने इस दौरान सभी वाहन चालकों से सहयोग की अपील भी की है।