प्रदेशाध्यक्ष की ताजपोशी और मंत्रीमंडल विस्तार के साथ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर हुए मजबूत

390

,

सत्ता और संगठन मिलकर बनाएंगे मिशन रिपीट को कामयाब

शिमला. मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सियासी रुप से मजबूत होकर उभरे हैं। मंत्रीमंडल में तीन नए मंत्रियों की ताजपोशी और संगठन में प्रदेशाध्यक्ष पद पर सुरेश कश्यप की ताजपोशी से मुख्यमंत्री को और मजबूती मिली है। जिससे अब मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर सत्ता और संगठन के बीच बेहतर तालमेल के साथ मिशन 2022 को कामयाब करेंगे। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रदेश के सियासत के अनुसार जातीय और क्षेत्रीय संतुलन बनाते हुए मंत्रियों की ताजपोशी की है तो अनुसूचित जाति वर्ग से प्रदेशाध्यक्ष पद पर सुरेश कश्यप की ताजपोशी कर एक वर्ग विशेष का महत्व दिया है। जयराम ठाकुर ने पार्टी हाईकमान से लंबे मंथन के बाद प्रदेश के सभी सियासी समीकरणों का संतुलन बनाते हुए सत्ता और संगठन में ताजपोशी की है जिससे अब तय है कि सत्ता और संगठन दोनों मिलकर मजबूती के साथ मिशन रिपीट का कामयाब करने के लिए काम करेंगे। सत्ता और संगठन में अपनी पसंद के नेताओं की ताजपोशी कर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि वह पूरी तरह निर्णय लेने में स्वतंत्र हैं और उन्होंने साबित किया है कि सत्ता किसी के रिमोट कंट्रोल से नहीं चल रही है बल्कि सभी निर्णय मुख्यमंत्री स्वतंत्रता के साथ ले रहे हैं।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के मंत्रीमंडल में शामिल मंत्रियों की बात की जाए तो पूरी तरह क्षेत्रीय और जातीय समीकरण का समन्वय नजर आता है। मंत्रीमंडल में ब्राम्हण वर्ग से दो मंत्री का प्रतिनिधित्व है जिसमें शिमला से सुरेश भारद्वाज तो बिलासपुर जिले के घुमारवीं से राजेंद्र गर्ग शामिल हैं तो ब्राम्हण के साथ प्रदेश के ट्राइबल एरिया से रामलाल मारकंडे को शामिल किया है। वहीं राजपूत वर्ग से मुख्ययमंत्री के साथ मंडी जिले से महेंद्र ठाकुर, कुल्लू जिले से गोविंद ठाकुर और कांगड़ा जिले के देहरा से विक्रम ठाकुर और नूरपुर से राकेश पठानिया और ऊना जिले से वीरेंद्र कंवर के रुप में प्रतिनिधित्व दिया गया हैं। वहीं प्रदेश की सियासत में जातीय समीकरण के अनुसार ओबीसी वर्ग भी महत्वपूर्ण हैं जिससे ओबीसी वर्ग से कांगड़ा जिले के शाहपुर से सरवीन चौधरी तो सिरमौर जिले के पाऊंटा साहित से सुखराम चौधरी को शामिल किया गया है। आरक्षित वर्ग को मंत्रीमंडल में प्रतिनिधित्व देते हुए सोलन जिले के कसौली से राजीव सहजल को शामिल किया गया है। इस तरह सरकार में पूरी तरह जातीय और क्षेत्रीय समीकरण का संतुलन बनाकर सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व करती एक जनहितैषी सरकार बनाई है। सिरमौर जिले का बड़ा प्रतिनिधित्व देते हुए पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष का पद सुरेश कश्यप को सौंपा गया है। इसी तरह विधानसभा अध्यक्ष का पद कांगड़ा जिले से विपिन परमार को दिया गया है तो उपाध्यक्ष का पद चंबा जिले से हंसराज का दिया गया है। इस तरह सत्ता और संगठन में पूरी तरह क्षेत्रीय और जातीय समीकरण का समन्वय बैठाकर प्रतनिधित्व प्रदान किया गया है।