फिर भड़क सकती है ध्वाला की ज्वाला, ज्वालामुखी भाजपा मंडल भंग

287

ज्वालामुखी के विधायक रमेश ध्वाला सरकार से कम और संगठन से अधिक नाराज होते हैं। ध्वाला ने खुद मीडिया के सामने संगठन मंत्री पवन राणा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था लेकिन मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के हस्तक्षेप से मामला शांत हो गया था। ध्वाला यही आरोप लगाते रहे हैं कि संगठन मंत्री पवन राणा ज्वालामुखी मंडल में हस्तक्षेप करते हैं। और अब भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने निर्णय लेकर संगठनात्मक जिला देहरा के ज्वालामुखी मंडल को भंग कर दिया है और ज्वालामुखी के कई प्रदेश संगठन के नेताओं को भी भार मुक्त कर दिया गया है। संगठन ने इस निर्णय के पीछे दलील दी है कि इन नेताओं ने सरकार और पार्टी के खिलाफ बयानबाजी कर छवि धूमिल की है। जिसके कारण सभी के खिलाफ अनुशनात्मक कार्रवाई की गई है। निकाले गए नेताओं में कुलदीप शर्मा, भाजपा उपाध्यक्ष जिला देहरा, जोगिन्द्र कौशल, भाजपा सचिव, जिला देहरा, चमन लाल पुण्डीर, पूर्व मण्डल अध्यक्ष ज्वालामुखी एवं विशेष आमंत्रित सदस्य जिला, युवा मोर्चा के नितिन ठाकुर, जिलाध्यक्ष देहरा और महिला मंडल के पदाधिकारी शामिल हैं। संगठन के इस निर्णय से अब फिर ध्वाला की ज्वाला भड़केगी, जिसे संभालना भाजपा के लिए एक मुश्किल से कम नहीं होगा।

भारतीय जनता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप ने पिछले दिनों संगठनात्मक जिला देहरा के ज्वालामुखी मण्डल के कुछ पदाधिकारियों द्वारा संगठन के विरूद्ध बयानबाजी कर पार्टी की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया है जोकि अनुशासनहीनता के दायरे में आता है। इसलिए पार्टी ने तुरन्त प्रभाव से भाजपा ज्वालामुखी मण्डल को भंग कर दिया है। साथ ही मण्डल के सभी मोर्चे एवं प्रकोष्ठों को भी भंग कर दिया गया है। इसके अतिरिक्त निम्नलिखित कार्यकर्ताओं को तत्काल प्रभाव से दायित्व मुक्त कर दिया गया है:-
1. कुलदीप शर्मा, भाजपा उपाध्यक्ष जिला देहरा।
2. जोगिन्द्र कौशल, भाजपा सचिव, जिला देहरा।
3. चमन लाल पुण्डीर, पूर्व मण्डल अध्यक्ष ज्वालामुखी एवं विशेष आमंत्रित सदस्य जिला
देहरा।
युवा मोर्चा:-
1. नितिन ठाकुर, जिलाध्यक्ष देहरा।
2. राकेश ठाकुर, प्रदेश सह प्रवक्ता एवं प्रभारी भाजयुमो जिला देहरा।
महिला मोर्चा:-
1. भावना शर्मा, जिला महामंत्री, देहरा।
शहरी केन्द्र अध्यक्ष:-
1. रामस्वरूप शास्त्री (असंवैधानिक दायित्व)

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी अनुशासन के लिए ही जानी जाती है और यहां पर कोई भी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता कभी भी संगठन से उपर नहीं हो सकता। उन्होनें कहा कि सभी नेताओं व कार्यकर्ताओं को अनुशासन में रहकर ही पार्टी के लिए कार्य करना होता है और जब कोई कार्यकर्ता, नेता या पार्टी का पदाधिकारी पार्टी की विचारधारा व अनुशासन को भंग करने की कोशिश करता है तो पार्टी उसके विरूद्ध पार्टी संविधान के अनुसार कड़ी कार्यवाही करती है।
सुरेश कश्यप ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं की पार्टी है और कार्यकर्ताओं के परिश्रम से ही पार्टी आगे बढ़ती है परन्तु अनुशासनहीनता के लिए पार्टी में कोई स्थान नहीं है। उन्होनें कहा कि शीघ्र ही ज्वालामुखी के नए मण्डल तथा मोर्चे एवं प्रकोष्ठों का गठन किया जाएगा।