भाजपा के अंदर चल रहा सत्ता संघर्ष, शांता कुमार के बयाने के बड़े मायने : कुलदीप राठौर

204

शिमला 22अक्टूबर 2020.कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने कहा है कि प्रदेश भाजपा के अंदर सत्ता संघर्ष को लेकर आंतरिक कलह चली हुई है।उन्होंने कहा है कि कांग्रेस पर कोई भी विपरीत टिप्पणी करने से पूर्व भाजपा को पहले अपने घर की सुध ले लेनी चाहिए।
मीडिया के साथ आज अनौपचारिक बातचीत में राठौर ने कहा कि भाजपा के वरिष्ठ नेता शांता कुमार का यह बयान की प्रदेश में भाजपा में राजनीति प्रदूषित होती जा रही है,अपने आप मे एक बहुत बड़ा संदेश है जिसके कई मायने भी है।उनका यह कथन पार्टी के अंदर नेताओं में बढ़ते असंतोष को स्पष्ट इंगित करता है।
राठौर ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर हो या प्रदेश स्तर पर आज भाजपा ने अपने वरिष्ठ नेताओं को अपनी राजनीति से दर किनार कर दिया है।उन्होंने कहा कि प्रदेश में शांता कुमार भी इसी परिणीति का शिकार हुए है।उनका यह आरोप की उन्हें अपने ही लोगों ने राजनैतिक षडयंत्र का शिकार बनाया पार्टी की पूरी पोल खोलता है।
राठौर ने कहा की शांता कुमार के बयान को हल्के से नही लिया जा सकता।उन्होंने कहा कि आज प्रदेश में भाजपा के कुछ मंत्री बेलगाम हो गए है ।सरकार और ब्यूरोक्रेसी के बीच टकराव की स्तिथि बनती जा रही है।
राठौर ने केंद्र सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि वह देश मे किसानों की आवाज दबाने का पूरा प्रयास कर रही है।उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों की लड़ाई तब तक जारी रखेगी,जबतक की सरकार अपने इस काले कानून को वापिस नही ले लेती।उन्होंने कहा कि देश के किसानों को फिर से गुलाम बनाने की साजिश रची जा रही है।
राठौर ने प्रदेश विश्वविद्यालय में चल रहे छात्र आंदोलन पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि छात्रों के साथ बातचीत की जानी चाहिए व उनकी मांगों को माना जाना चाहिए।उन्होंने वीसी पर अपनी मनमानी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह विश्वविद्यालय में तानाशाही कर रहें है।उन्होंन कहा कि उपकुलपति को अपना अहम छोड़ संघर्षरत छात्रों की सुन कर उनका निराकरण करना चाहिए।उन्होंने छात्रों की मांगों पर कांग्रेस पार्टी के समर्थन की बात भी कही।
एक प्रश्न के उत्तर में राठौर ने कहा कि प्रदेश में पंचायत चुनाव ऊपरी क्षेत्रों में बर्फबारी व ठंड से पूर्व हो जाने चाहिए।उन्होंने कहा की बर्तमान सरकार प्रदेश में कोई भी विकास कार्य करवाने में पूरी तरह असफल रही है और यही कारण है कि इन चुनावों में भाजपा से जुड़े लोगों को करारी हार मिलने वाली है।उन्होंने कहा कि प्रदेश का हर वर्ग आज इस सरकार से दुखी है।उन्होंने कहा कि बेरोजगारी दूर करने के कोई भी उपाय सरकार नही कर पा रही है जबकि बढ़ती मंहगाई पर इसका कोई भी नियंत्रण नही है।प्रदेश में पीडीएस,सार्बजनिक वितरण प्रणाली अस्त व्यस्त होकर रह गई है।