मंत्रीमंडल विस्तार : पठानिया, सुखराम और राजेंद गर्ग कल 11 बजे लेंगे मंत्री पद की शपथ

1290

 

शिमला. मंत्रीमंडल विस्तार के लिए अब इंतजार खत्म हो चुका है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के मंत्रीमंडल में कल तीन मंत्री शामिल हो सकते हैं। जिनमें नूरपुर से विधायक राकेश पठानिया, पाऊंटासाहिब के विधायक सुखराम और घुमारवीं से विधायक राजेंद्र गर्ग मंत्री पद की शपथ लेंगे। शपथ ग्रहण का कार्यक्रम कल 11 बजे राजभवन में आयोजित होगा। इसमें सबसे आश्चर्य में डालने वाला नाम राजेंद्र गर्ग का है जो घुमारवीं से पहली बार विधायक बने हैं। गर्ग भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के करीबी हैं। शायद यही कारण है कि गर्ग को पहली बार विधायक होने के बाद ही मंत्रीमंडल में जगह मिली है जबकि भाजपा में कई सीनियर विधायक और पूर्व मंत्री जयराम के मंत्रीमंडल में शामिल होने की दाबेदारी कर रहे थे। जिनमें रमेश ध्वाला, नरेंद्र बरागटा, राजीव बिंदल सहित तीन बार और चार बार विधायक रहे नेता भी मंत्री पद के दाबेदारों में शामिल रहे लेकिन उनहें जगह नहीं मिल सकी।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने एक दिन पहले हाईकमान से चर्चा कर मंत्रीमंडल विस्तार के लिए हरी झंडी ले ली है। राजभवन मंत्रियों के शपथ ग्रहण समारोह की तैयारी भी शुरु हो गई है और मुख्यमंत्री सचिवालय में तीन मंत्रियों के लिए ऑफिस भी तैयार हो चुका है। अब सिर्फ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शाम 7 बजे राज्यपाल से मुलाकात की और कल 11 बजे मंत्रीमंडल में शामिल होने वाले नए मंत्रियों की शपथ ग्रहण समारोह तय हो गया है। राकेश  पठानिया, राजेंद्र गर्ग और सुखराम चौधरी शिमला गए हैं।

ऐसी चर्चा है कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर वर्तमान मंत्रियों के विभागों में फेरबदल भी करने जा रहे हैं। नए मंत्रियों को विभाग बांटने के साथ ही वर्तमान मंत्रियों के विभागों में भी फेरबदल किया जाएगा।

मंत्री पद के दाबेदारों में शिमला जिला से नरेंद्र बरागटा, कांगड़ा से रमेश ध्वाला और मंडी जिले से कर्नल इंद्र सिंह भी दाबेदार हैं लेकिन क्षेत्रीय और जातीय समीकरण के आधार पर तीन को ही मंत्री बनाया जा रहा है। रमेश ध्वाला और नरेंद्र बरागटा को पहले से ही सत्ता में स्थान दिया गया है। अब कर्नल इंद्र को भी सरकार में किसी महत्वपूर्ण पद पर ताजपोशी की जा सकती है। इसके साथ ही मंत्री पद के दाबेदारों में हमीरपुर से नरेंद्र ठाकुर और भोरंज से विधायक कमलेश कुमारी का नाम भी चर्चा में था। लेकिन मंत्री मंडल में जगह न पाने वाले दाबेदारों को सरकार में कहां ताजपोशी की जाएगी यह समय आने पर ही पता चलेगा।