100 वैक्सीनेशन तो अब किसको लग रही पहली डोज

81

जनसंख्या के प्रोजेक्टिड आंकड़ों पर ली पीएम से बधाई

सब हेड – 30 अगस्त तक 100 फीसदी वैक्सीनेशन का दावा, 1 से 10 सितंबर तक 80 हजार लोगों को लगी वैक्सीन की पहली डोज

शिमला. सरकार ने कोविड वैक्सीन के पहले डोज का 100 फीसदी वैक्सीनेशन का लक्ष्य हासिल कर राष्ट्र स्तरीय जश्न मनाया। इस जश्न में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा, केंद्रीय कैबिनेट मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पूरी अपनी टीम के साथ शामिल हुए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैक्सीन संवाद के तहत प्रदेश के कोरोना वारियर्स से बातचीत कर बधाई दी। लेकिन अब आपको समझना होगा कि यह 100 फीसदी का आंकड़ा गणित के हिसाब से नहीं बल्कि राजनैतिक गणित के हिसाब से है। गणित के हिसाब से सौ फीसदी यानि पूरा का पूरा 100 फीसदी ही होता है, न एक नंबर कम और न एक नंबर ज्यादा। 1 नंबर के अंतर में आंकड़ा बदल जाता है और 100 फीसदी नहीं होता। लेकिन वैक्सीन के पहली डोज के सौ फीसदी के राजनैतिक आंकड़ें में लाखों का अंतर है। जिससे तय है कि गणित के हिसाब से कहें तो सौ फीसदी का लक्ष्य हासिल नहीं हुआ । प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने 30 अगस्त को ही दावा किया कि कोविड वैक्सीन के लिए 18 वर्ष से अधिक पात्र लोगों को पूरी 100 फीसदी वैक्सीन की डोज देने का लक्ष्य हासिल कर लिया है। इसकी बकायदा रिपोर्ट केंद्र को भेजी गई और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष भी प्रस्तुत की गई। इन आंकड़ों के हिसाब से देश में हिमाचल प्रदेश नंबर वन पर रहा, जिससे प्रधानमंत्री भी हिमाचल प्रदेश की इस उपलब्धि से खुश हुए। प्रदेश की सरकार, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी व कर्मचारी, कोरोना वारियर्स को बधाई देने के लिए वैक्सीन संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जो सोलह आने सफल भी रहा। स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों व कोरोना वारियर्स का हौसला भी बढ़ा। लेकिन 30 अगस्त को सरकार के द्वारा वैक्सीन की पहली डोज का 100 फीसदी लक्ष्य हासिल करने के बाद भी प्रदेश के हजारों लोगों को वैक्सीन की डोज दी जा रही है। सरकार के स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े ही कह रहे हैं कि 1 सितंबर से लेकर 10 सितंबर तक लगभग 80000 हजार लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी गई है। अब सवाल यह उठता है कि जब वैक्सीन की पहला डोज 100 फीसदी लोगों को 30 अगस्त तक लग चुकी थी तो अब किसको यह पहली डोज दी जा रही है। सौ फीसदी लग जाने का आशय ही यह है कि अब प्रदेश में एक भी व्यक्ति नहीं बचा है, जिसको पहली डोज दी जानी है। स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जारी 1 से 10 सितंबर तक के वैक्सीनेशन के आंकड़ें देखें तो वह बताते हैं कि प्रतिदिन वैक्सीन की पहली डोज लेने वालों की संख्या 3 से 10 हजार तक है। ऐसा अनुमान है कि इसी अनुपात में आंकड़े अभी आगे कुछ समय तक तो आ ही सकते हैं। सितंबर माह के बाद कम या बंद हो सकते हैं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि केंद्र सरकार के द्वारा पहली डोज के लिए प्रोजेक्टिड आंकड़ा 54 लाख 30 हजार दिया था, उसका लक्ष्य प्राप्त किया है और इसी लक्ष्य को प्राप्त करने का जश्न मनाया जा रहा है। लेकिन अभी तक के आंकड़े देखे जाएं तो सरकार के प्रोजेक्टिड आंकड़ों से अधिक 55 लाख 75 हजार लोगों को वैक्सीन की पहले डोज लगा दी गई है। लेकिन अभी भी सौ फीसदी नहीं कहा जा सकता क्योंकि अभी भी लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी जा रही है और लोग आ रहे हैं। सरकारी आंकड़ों से ही साफ है कि अभी तक सरकार ने वैक्सीन की पहली डोज का 100 फीसदी लक्ष्य हासिल नहीं किया है और प्रोजेक्टिड आंकड़ों के आधार पर लक्ष्य हासिल करने का जश्न मना लिया।

1 से 10 सितंबर तक 80 हजार लोगों को लगी वैक्सीन की पहली डोज

वैक्सीन– 18 से 44 45 + कुल
1 सितम्बर 10249 +2805 13054
2 सितम्बर 8782 +2299 11081
3 सितम्बर 8891 +2585 11476
4 सितम्बर 8624 +2721 11345
5 सितम्बर 2127 +1192 3319
6 सितम्बर 5573 +1439 7012
7 सितम्बर 5129 +1229 6358
8 सितम्बर 4823 +1250 6007
9 सितम्बर 4590 +1002 5592
10 सितम्बर 4571 +1030 5602
—————————————————–
10 दिन 63389 + 17552 80941

वैक्सीनेशन में किया सराहनीय कार्य

कोविड वैक्सीनेशन में प्रदेश के स्वास्थ्य महकमें ने सराहनीय काम किया है, इसमें कोई दो राय नहीं होनी चाहिए। एक स्वास्थ्य कर्मी के द्वारा 20 से 22 हजार लोगों को वैक्सीन लगाना आम बात नहीं है। सौ फीसदी के आंकड़े सही न भी हों तो 95 फीसदी का आंकड़ा तो सही ही है। 95 फीसदी लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लगाने पर भी हिमाचल देश में नंबर वन ही होगा। हिमाचल प्रदेश भौगोलिक स्थित अन्य प्रदेशों से बहुत अलग है। यहां गांव-गांव पहाड़ पार करके पहुंचना आसान काम नहीं है। मलाणा या बड़ा भंगाल के लोगों को वैक्सीन लगाना बहुत चुनौती पूर्ण कार्य है जिसे स्वास्थ्य विभाग की टीम में आसान बनाया और सभी लोगों तक वैक्सीन पहुंचाई। स्वास्थ्य कर्मियों के इस कार्य की सराहना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी खुले दिल से की है।

मुख्यमंत्री बोले, केंद्र के प्रोजेक्टिड फिगर को एचीव किया

प्रदेश में 100 फीसदी वैक्सीनेशन के जश्न प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वैक्सीन संवाद कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रधानमंत्री का आभार व्यक्त कर सभी स्वास्थ्य कर्मियों को 100 फीसदी वैक्सीनेशन अभियान को पूरा करने की बधाई दी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बताया कि केंद्र सरकार ने सौ फीसदी वैक्सीनेशन के लिए प्रोजेक्टिड फिगर दिया था जो 54 लाख 30 हजार था। इतने 18 वर्ष से अधिक आयु के लोग वैक्सीन के लिए पात्र माने गए थे। इसके अनुसार ही प्रदेश में अभी तक 55 लाख 18 हजार लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लगाकर प्रोजेक्टिड फिगर को अचीव किया है। मुख्यमंत्री ने यह नहीं बताया कि वर्तमान में प्रदेश की जनसंख्या के अनुसार कितने 18 वर्ष से अधिक आयु के लोग वैक्सीन के लिए पात्र हैं। इस तरह केंद्र सरकार के प्रोजेक्टिड फिगर के अनुसार ही 100 फीसदी वैक्सीन का टारगेट एचीव किया गया है प्रदेश की आबादी के अनुसार 100 फीसदी लोगों को वैक्सीन नहीं लगी है।

2011 की जनगणना के अनुसा प्रोजेक्टिड फिगर – वेरवा

वैक्सीन की पहली डोज की 100 फीसदी वैक्सीनेशन के टारगेट को एचीव करने पर एनआरएचएम के मिशन डायरेक्टर हेमराज बेरवा कहते हैं कि यह फिगर 2011 की जनगणना के आधार पर एक प्रोजेक्टिड फिगर है जो करीब 54 लाख के करीब है। इसके साथ ही डोर टू डोर सर्वे के अनुसार भी एक अनुमानित आंकड़ा जुटाया था। इस आंकड़े के अनुसार सौ फीसदी वैक्सीनेशन का टारगेट हासिल किया है। 100 फीसदी वैक्सीनेशन के दावे के बाद अब किन लोगों को वैक्सीन लग रही है, इस सवाल के जवाब में डायरेक्टर कहते हैं कि अभी कुछ लोग बचे हैं तो उस समय वैक्सीन के लिए पात्र नहीं थे। कोई प्रदेश के बाहर था, जो अब आकर लगवा रहे हैं। इसके साथ ही पहले अपात्र लोग अब पात्र होने पर वैक्सीन लगवा रहे हैं। बहुत से माइग्रेट लोग भी वैक्सीन लगवा रहे हैं। अब बहुत कम लोग ही ऐसे बचे हैं जो वैक्सीन की पहली डोज लेंगे।

प्रधानमंत्री बोले, हिमाचल ने बढ़ाया देश का आत्मविश्वास

शिमला. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नई दिल्ली से वर्चुअल माध्यम द्वारा प्रदेश के कोरोना योद्धाओं और लाभार्थियों के साथ वैक्सीन संवाद के बाद प्रदेश की जनता को सम्बोधित किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर पीटरहॉफ शिमला में आयोजित मुख्य कार्यक्रम में शामिल हुए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रदेश सरकार और प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि शत-प्रतिशत पात्र लाभार्थियों को कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक देने में हिमाचल प्रदेश चैम्पियन बन कर सामने आया है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि दूसरी खुराक का शत-प्रतशत लक्ष्य हासिल करने में भी हिमाचल प्रदेश प्रथम स्थान पर रहेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश ने यह लक्ष्य प्रदेश सरकार की कार्य कुशलता और जन-जागरूकता के परिणामस्वरूप हासिल किया है।उन्होंने वैक्सीनेशन अभियान को सफल बनाने में राज्य सरकार के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने छोटी-छोटी सुविधाओं के लिए जूझते हुए हिमाचल को देखा है और आज विकास की गाथा लिखने वाले हिमाचल को भी देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि पात्र व्यक्तियों को कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज लगाने में हिमाचल देश भर में पहला राज्य बना है, जबकि दूसरी डोज के मामले में हिमाचल एक तिहाई आबादी को कवर कर चुका है। हिमाचल के इस कदम ने अहसास दिलाया है कि आत्मनिर्भर होना कितना जरूरी है।