मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने दिखाई दरियादिली : राजनीति से बढ़कर मानवता, पंडित सुखराम को एम्स ले जाने के लिए दिया हेलीकॉप्टर

251

शिमला. मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने एक बार फिर अपनी दरियादिली दिखाते हुए साबित किया कि मानवता का स्थान राजनीति से कहीं ऊंचा है। पंडित सुखराम परिवार से भले ही लंबे समय से राजनैतिक विरोध चलता रहा लेकिन जब पंडित सुखराम का स्वास्थ्य खराब हुआ तो मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सभी पूर्व निर्धारित कार्यक्रम रद्द कर उनका हाल जानने मंडी अस्पताल पहुंचे और बेहतर इलाज के लिए दिल्ली एम्स ले जाने के लिए अपना हेलीकॉप्टर भी दिया। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने स्वयं एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया से बात की और पंडित सुखराम को बेहतर इलाज करने का आग्रह किया। यह सर्वविदित है कि पंडित सुखराम और आश्रय शर्मा कांग्रेस में है तो अनिल शर्मा अभी भी भाजपा के विधायक हैं। भाजपा के विधायक होते हुए भी मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से साथ राजनैतिक मतभेद बने हुए हैं। लेकिन जब पंडित सुखराम के स्वास्थ्य खराब होने की बात आई तो मुख्यमंत्री ने राजनैतिक मतभेद को दरकिनार करते हुए मानवता का परिचय दिया और पंडित सुखराम को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली ले जाने के लिए हेलीकॉप्टर देने के साथ-साथ एम्स के डायरेक्टर से बात कर बेहतर इलाज का प्रबंध भी किया। पंडित सुखराम मंडी जिले के कदावर नेता है और उनके राजनैतिक योगदान को देखते हुए ही मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सम्मान दिया।

 मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने शनिवार को क्षेत्रीय अस्पताल मंडी पहुंच कर वहां उपचाराधीन पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे पंडित सुखराम का कुशलक्षेम जाना। उन्होंने पंडित सुखराम के पुत्र एवं सदर मंडी के विधायक अनिल शर्मा और अन्य परिजनों और डॉक्टरों से बात कर उनकी सेहत की स्थिति का ब्योरा लिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री को इलाज के लिए एम्स दिल्ली ले जाने को मुख्यमंत्री ने अपना चौपर मंडी में छोड़ दिया और खुद सड़क मार्ग से कुल्लू जिले के अपने कार्यक्रमों को रवाना हुए। पंडित सुखराम को सुबह करीब 9 बजे सरकारी चौपर से बेहतर इलाज के लिए दिल्ली ले जाया गया। मुख्यमंत्री ने उनके इलाज को लेकर एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया से भी व्यक्तिगत फोन कर बात की।

बता दें, मुख्यमंत्री के शनिवार को कुल्लू जिले के सैंज और बंजार में कार्यक्रम तय थे और उन्हें शिमला से सीधे सैंज पहुंचना था। लेकिन पंडित सुखराम का स्वास्थ्य खराब होने की सूचना मिलने पर मुख्यमंत्री ने अपने तय कार्यक्रम में बदलाव करवाया और उनका हालचाल जानने शनिवार सुबह साढ़े 8 बजे मंडी पहुंचे। उन्होंने कहा पंडित सुखराम प्रदेश के एक कद्दावर नेता रहे हैं और प्रदेश की राजनीति में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है। मुख्यमंत्री ने उनके शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना की और सुखराम परिवार की हर संभव मदद की बात कही।