निगम चुनाव : कांग्रेसी नेताओं ने की मजबूत घेराबंदी, वार्ड की गलियों में घूम रहे मुख्यमंत्री से लेकर मंत्री तक, हर जगह कड़ी चुनौती

158

शिमला. मिशन 2022 के सेमीफाइनल कहे जाने वाले निगम चुनाव में सत्ताधारी दल भाजपा के साथ अब कांग्रेसी नेता भी एकजुटता के साथ चुनावी मैदान में डटे हैं। धर्मशाला, पालमपुर, सोलन और मंडी नगर निगम के चुनाव में कांग्रेसी नेताओं ने भी पूरा दम लगा दिया है। चुनावी मैदान में साफ दिख रहा है कि कांग्रेसी नेताओं ने निगम क्षेत्रों में डेरा जमाकर सरकार के खिलाफ मजबूत घेराबंदी कर दी है। सियासी रणनीति के तहत कांग्रेसी नेताओं ने सत्ताधारी दल भाजपा को ऐसा घेरा है कि अब मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर हर निगम क्षेत्रों में प्रचार कर रहे हैं तो सरकार के मंत्री अब वार्ड की गलियों-गलियों में घूमकर भाजपा प्रत्याशियों को जिताने के लिए दम लगा रहे हैं।
धर्मशाला नगर निगम के चुनाव में मंत्री राकेश पठानिया ने स्थानीय विधायक विशाल नैहरिया के साथ मोर्चा संभाला है तो कांग्रेस प्रत्याशियों को जिताने के लिए पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा मैदान में उतरे हैं। वहीं कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप राठौर ने दौरा किया तो विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री भी मोर्चा संभालने पहुंचे।
मुख्यमंत्री के गृह जिले मंडी में भी कांग्रेसी नेता मोर्चा संभाले हुए हैं। यहां पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का प्रभाव है तो मंडी सदर में पंडित सुखराम परिवार का भी दबदबा है। मंडी में भाजपा प्रत्याशियों को जिताने के लिए मुख्यमंत्री के साथ सरकार के तीन मंत्री प्रचार में डटे हैं तो कांग्रेस प्रत्याशियों के लिए पूर्व मंत्री जीएस बाली, ठाकुर कौल सिंह, प्रकाश चौधरी के साथ पंडित सुखराम के पोते आश्रय शर्मा जोर लगा रहे हैं।
पालमपुर शहर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष बृज बिहारी बुटेल को गढ़ माना जाता है। यहां से उनके पुत्र आशीष बुटेल विधायक हैं। जिससे अभी तक पालमपुर में कांग्रेस की स्थिति मजबूत मानी जा रही है। लेकिन आशीष बुटेल के साथ विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने दो दिन तक प्रचार में मोर्चा संभाला। वहीं इंटक नेता बाबा हरदीप लगातार डटे हुए हैं। इसके साथ ही पूर्व मंत्री कौल सिंह सहित कांग्रेस के दर्जनों नेता पालमपुर में प्रचार कर रहे हैं। यहां भाजपा प्रत्याशियों को जिताने के लिए सरकार के मंत्री विक्रम ठाकुर के साथ गद्दी नेता त्रिलोक कपूर प्रचार में डटे हैं। वहीं सोलन नगर निगम में भाजपा की कमान पूर्व मंत्री राजीव बिंदल ने संभाली है तो भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप के साथ स्वास्थ्य मंत्री राजीव सहजल भी चुनाव प्रचार कर रहे हैं तो कांग्रेस प्रत्याशियों को जिताने के लिए विधायक धनीराम शांडिल्य के साथ प्रभारी के तौर पर राजेंद्र राणा ने प्रचार की कमान संभाली है।
इस तरह चारों नगर निगम में कांग्रेस नेताओं ने डेरा जमाकर सत्ताधारी दल की घेराबंदी की है। जिससे भाजपा व कांग्रेस प्रत्याशियों के बीच मुकाबला बहुत कड़ा हो गया है। अब देखना है कि कहां कौन बाजी मारता है।