पूर्व सांसद प्रतिभा सिंह और विक्रमादित्य का दिल्ली दौरा महत्वपूर्ण, राष्ट्रीय नेताओं से प्रदेशाध्यक्ष सहित उपचुनाव के मुद्दों पर की चर्चा

144

विक्रमादित्य सिंह ने कहा, हम मांगने वालों में नहीं, देने वालों में, हाईकमान कहेगा तो हर जिम्मेवारी के लिए तैयार

शिमला. कांग्रेस की सियासत में लंबे समय से चल रही गहमागहमी के बाद आज पूर्व सांसद प्रतिभा सिंह और शिमला ग्रामीण के विधायक विक्रमादित्य सिंह ने दिल्ली में कांग्रेस के सीनियर नेताओं से मुलाकात की। जिसमें प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष पद के साथ-साथ प्रदेश में होने वाले उपचुनावों के संबंध में चर्चा की। पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के निधन के बाद पहली बार प्रतिभा सिंह और विक्रमादित्य सिंह का दिल्ली दौरा प्रदेश की सियासत के लिए महत्वपूर्ण माना जा रहा है। वीरभद्र समर्थकों को मानना है कि कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष पद की कमान पूर्व सांसद प्रतिभा सिंह को सौंपी जानी चाहिए। जिसके चलते संभावना है कि सीनियर नेताओं के साथ प्रदेशाध्यक्ष पद के बारे में चर्चा हुई होगी। दिल्ली दौरे पर गए विक्रमादित्य सिंह से बात की तो उन्होंने कहा कि हम मांगने वालों में से नहीं हैं देने वालों में से है। किसी भी पद की दावेदारी हम नहीं करते। हाईकमान चाहेगी कि कांग्रेस की मजबूती के लिए हमारे परिवार को प्रदेशाध्यक्ष बनाना चाहिए तो जिम्मेवारी निभाने को तैयारी है। हाईकमान कहेगा कि मंडी से चुनाव लड़ना है तो चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं। पार्टी हाईकमान जो जिम्मेदारी देगी, उसके लिए हमारा परिवार हमेशा तैयार रहा है और अब भी तैयार हैं।
पूर्व सांसद प्रतिभा सिंह और विक्रमादित्य सिंह ने कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव संगठन केसी वेणुगोपाल से मुलाकात की। विक्रमादित्य ने बताया कि उनसे प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की स्थिति और इसे मजबूत करने के बारे में चर्चा की गई। इसके साथ ही महासचिव रणदीप सुरजेवाला से भी मुलाकात की है। पूर्व सांसद प्रतिभा सिंह और विक्रमादित्य सिंह का दिल्ली दौरा कांग्रेस की सियासत में बहुत ही महत्वपूर्ण माना जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के समर्थकों का मानना है कि कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष पद प्रतिभा सिंह को सौंपा जाना चाहिए। जिससे प्रदेश में कांग्रेस पार्टी एकजुट होकर अगामी विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज कर सके। इस बात को दिल्ली हाईकमान के समक्ष भी प्रदेश प्रभारी के माध्यम से पहुंचाया गया है। जिससे अब यह संभावना है कि प्रतिभा सिंह और विक्रमादित्य सिंह के दिल्ली दौर पर इस बारे में भी चर्चा हुई होगी। प्रतिभा सिंह और विक्रमादित्य सिंह के दिल्ली दौर से प्रदेश के कांग्रेसी नेताओं में चर्चा तेज है लेकिन अभी सब शांत हैं।
कांग्रेस में प्रदेशाध्यक्ष पद की ताजपोशी के लिए कई नेताओं ने हाईकमान के समक्ष दावेदारी पेश की है लेकिन अभी तक हाईकमान ने कोई निर्णय नहीं लिया है। कांग्रेस के वर्तमान प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप राठौर की ताजपोशी भी पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की सहमति पर ही हुई थी। अब आगे भी प्रदेशाध्यक्ष पद पर उनके परिवार की राय महत्वपूर्ण होगी। इस कारण प्रतिभा सिंह और विक्रमादित्य सिंह का दिल्ली दौरे पर प्रदेशाध्यक्ष पद की चर्चा होना भी बहुत महत्वपूर्ण है।