मानव भारती फर्जी डिग्री के कांड की एसआईटी की जांच पर खुलासा करे सरकार : राणा

301
हमीरपुर 14 अक्तूबर
मानव भारती विश्वविद्यालय सोलन के फर्जी डिग्री कांड की जांच में लगातार हिचकिचा रही प्रदेश सरकार से जनता जानना चाहती है कि आखिर इस फर्जीकांड की जांच से सरकार को डर क्यों लग रहा है। सरकार किसके दबाव व प्रभाव में अब तक इस जांच को लटकाती आ रही है। यह बात राज्य कांग्रेस उपाध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने यहां जारी प्रेस बयान में कही है। राणा ने कहा है कि जब अब बड़ी मुश्किल से सरकार ने विपक्ष के दबाव में एसआईटी गठित कर दी है तो एक महीने बाद एसआईटी की जांच का क्या हुआ। उसका खुलासा करने से सरकार क्यों कतरा रही है। उन्होंने कहा कि विधानसभा में जब यह मामला उठा जिससे प्रदेश भर में सरकार की फजीहत हुई। तब जाकर सरकार ने इस मामले में एसआईटी गठित की। एसआईटी गठित किए हुए सरकार को करीब एक महीना बीत चुका है। ऐसे में अब प्रदेश की जनता उस जांच के नतीजे को जानना चाह रही है कि आखिर वर्षों तक लटकती आ रही जांच का क्या हुआ है। राणा ने कहा कि मानव भारती यूनिवर्सिटी में लाखों फर्जी डिग्रियां बेचे जाने से लाखों लोगों का भविष्य दांव पर लगा है। वहीं दूसरी ओर हिमाचल की धरती की देवभूमि छवि दुनिया भर में धूमिल हुई है। क्योंकि फर्जी डिग्री कांड के सरगना ने देश के युवाओं को ही नहीं विदेशों में जाकर भी लोगों को ठगा है। विधानसभा में एक-एक तथ्य व सबूतों सहित यह मामला मैंने लगातार उठाया है। बावजूद इसके सरकार इस जांच से लगातार कन्नी काट रही है व लगातार इस भ्रष्टाचार के गंभीर मामले को लटकाती आ रही है। उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि कहीं ऐसा तो नहीं है कि किसी के दबाव और प्रभाव में सरकार इस मामले को दबाना व छिपाना चाहती है। लग रहा है कि सरकार इस मामले में बड़ी मछलियों को ही नहीं मगरमच्छों को भी बचाना चाह रही है। उन्होंने कहा कि सबूत, तथ्य व चर्चाएं बताती हैं कि इस मामले की जांच की जद में प्रदेश के कुछ ऐसे घाघ आ सकते हैं जिनका नाता व वास्ता सत्तासीन सरकार से है। बीजेपी के नेताओं के शिक्षा व यूनिवर्सिटियों को लेकर आ रहे बयान स्पष्ट करते हैं कि मामला सेंट्रल यूनिवर्सिटी के स्थाई परिसर का हो, या एनआईटी हमीरपुर का हो, या फिर आईआईएम नाहन का हो, या फिर मेडिकल कॉलेजों व स्वास्थ्य विभाग में चले आ रहे बेखौफ भ्रष्टाचार का हो। बीजेपी इस पर लगातार राजनीति कर रही है। सत्ता के संरक्षण में शिक्षा व स्वास्थ्य से लगातार खिलवाड़ करते हुए दलालों के दबाव व प्रभाव में सत्ता में प्रत्यक्ष व परोक्ष रूप में बैठे हुए लोगों ने हाथ रंगे हैं। जिस कारण से सरकार खौफजदा है कि इस मामले का खुलासा होते ही बड़ी-बड़ी डींगें हांकने वाली सरकार व सत्ता का चेहरा जनता के सामने आ जाएगा। राणा ने कहा कि शिक्षा व स्वास्थ्य के प्रति प्रदेश की जनता हो रहे खिलवाड़ को भलीभांति देख व समझ रही है। जिसका जवाब प्रदेश की जनता बीजेपी की सत्ता को समय आने पर देगी।