कसौली क्षेत्र का विकास कराने में नाकाम रहे स्वास्थ्य मंत्री राजीव सैजल : वेद गर्ग

सोलन . कांग्रेस सोलन जिला के प्रवक्ता वेद गर्ग ने स्वास्थ्य मंत्री राजीव सैजल पर हमला करते हुए कहा कि कसौली क्षेत्र का विकास कराने में मंत्री पूरी तरह नाकाम रहे हैं। सरकार के स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए कसौली क्षेत्र में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं दे सके तो प्रदेश में कहां से दे पाए होंगे। वेद गर्ग ने कहा कि कसौली क्षेत्र के स्वास्थ्य केंद्रों में पांच साल से डॉक्टर ही नहीं रहे हैं। क्षेत्र के स्वास्थ्य केंद्रों की हालत यह है कि पीएचसी और सीएचसी खंडहर बने नजर आते हैं। जिससे मरीजों को इलाज की सुविधा नहीं मिली। कसौली क्षेत्र जैसे हाल पूरे सोलन जिले के रहे हैं। सोलन के जिला अस्पताल में हमेशा डॉक्टरों के पद खाली रहे हैं। वहां पर मरीजों को न तो टेस्ट की सुविधा मिली और न ही दवाइयां मिलीं हैं। जिससे साफ है कि सोलन जिला सहित कसौली क्षेत्र के लोगों को इलाज के लिए बेहतर सुविधा देने में स्वास्थ्य मंत्री पूरी तरह नाकाम रहे हैं।

 

वेद गर्ग ने कहा कि भाजपा सरकार के समय पर्यटन नगरी कसौली का भी कोई विकास नहीं हुआ है। कसौली में लाखों पर्यटक आते हैं लेकिन पर्यटन की दृष्टि से कसौली को विकसित करने के सरकार ने कोई प्रयास नहीं किए। कसौली क्षेत्र में सड़कों की हालत खराब है। पर्यटक आते हैं तो परेशानी का सामना करना पड़ता है। सड़कें खराब होने के कारण लंबा जाम लगता है जिससे स्थानीय होटल व्यवसायियों के बिजनेस पर प्रभाव पड़ता है। सरकार प्रदेश में रोप वे बनाने का दावा करती है। कांग्रेस सरकार ने धर्मशाला से मैकलोड़गंज का रोपवे बनाया है। लेकिन सरकार में मंत्री रहते हुए भी राजीव सैजल कसौली क्षेत्र में कहीं भी रोपवे का निर्माण नहीं करा सके हैं।

 

वेद गर्ग ने कहा कि कसौली क्षेत्र की जनता अपने विधायक से जवाब मांग रही है कि लंबे समय से विधायक रहते हुए उन्होंने क्या विकास किया है। जिसका जवाब विधायक के पास नहीं है। जिससे अब जनता बदलाव के लिए तैयार है। कसौली क्षेत्र की जनता ने ठान लिया है कि अब चुनावों में कांग्रेस प्रत्याशी विनोद सुल्तानपुरी को जिताकर शिमला भेजेंगे, जिससे क्षेत्र में विकास तेजी से होगा। कांग्रेस प्रवक्ता वेद गर्ग ने कहा कि अब कसौली की जनता भाजपा के झूठे जुमलों से गुमराह होने वाली नहीं है। भाजपा सरकार के समय कसौली क्षेत्र की उपेक्षा हुई है। विकास के मामले में कसौली से भेदभाव किया गया है। आज भी कसौली क्षेत्र में ग्रामीण क्षेत्रों के लोग पानी की समस्या से परेशान है। कई पंचायतों में तो आठ से दस दिन बाद पानी आता है। लंबे समय से क्षेत्र के विधायक रहने के बाद भी राजीव सैजल पानी की समस्या का समाधान नहीं कर सके हैं। क्षेत्र के विधायक की नाकामी के कारण जनता बदलाव के लिए तैयार है।