भारतीय कंक्रीट संस्थान की निरंतर परामर्श व प्रोत्साहन से देश के ढाँचागत संरचनात्मक विकास में निर्णायक भूमिका

191

-चन्द्रकान्त पाराशर शिमला

शिमला/ 1 दिसम्बर : एक गैर-लाभकारी संगठन भारतीय कंक्रीट संस्थान भारत में अग्रणी व्यावसायिक निकायों में से एक है, जो कंक्रीट-कार्यों में शामिल व्यक्तियों और संगठनों की व्यावसायिक आवश्यकताओं की पूर्ति करने के साथ साथ कंक्रीट विषय पर ज्ञान के प्रसार, कंक्रीट प्रौद्योगिकी और निर्माण को बढ़ावा देने और कंक्रीट की अनुसंधान आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एकदम समर्पित है।
वर्ष 1982 में एसईआरसी चेन्नई और अन्ना विश्वविद्यालय ने संयुक्त रूप से आधुनिक कंक्रीट निर्माण प्रथाओं/प्रक्रियाओं पर एक अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया था,इसी संगोष्ठी की जबरदस्त सफलता/प्रतिक्रिया ने आयोजकों को भारतीय कंक्रीट संस्थान शुरू करने के लिए प्रेरित किया। इस प्रकार, आईसीआई का जन्म 1982 में 5 क्षेत्रीय केंद्रों के लगभग 500 सदस्यों के साथ हुआ था।
आज आईसीआई एक मजबूत पेशेवर निकाय है, जिसमें देश भर में फैले सभी प्रमुख शहरों के 44 क्षेत्रीय केंद्रों से 13,000 से अधिक नामांकित सदस्य हैं। इनमें से 353 से अधिक संगठनात्मक सदस्य हैं। आईसीआई के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए, क्षेत्रीय केंद्र साल भर विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों जैसे सेमिनार, कार्यशालाओं, सम्मेलनों, प्रदर्शनियों आदि का आयोजन राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर करते हैं।
शिमला शाखा केंद्र ने इस वर्ष दिए जाने वाले पुरस्कारों की अधिकारिक घोषणा कर दी है जिसमें वर्ष का “लाइफ़ टाइम अचीवमेंट अवार्ड “भी शामिल है ।

क्षेत्रीय केंद्र शिमला के अध्यक्ष मि0 जसवाल ने वर्ष 2021 के लिए प्रमुख आईसीआई पुरस्कारों की महत्ता को रेखांकित करते हुए बताया कि निर्माण उद्योग में, अधिकांश संरचनाओं की नींव के रूप में कंक्रीट का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है। … कंक्रीट का उपयोग कई अनुप्रयोगों के लिए किया जाता है, जिसमें बुनियादी नींव, सुपरस्ट्रक्चर, अपशिष्ट जल उपचार सुविधाएं, जल उपचार सुविधाएं, पार्किंग संरचनाएं, फर्श निर्माण और बाहरी सतह विशेष रूप से शामिल हैं।देश के अग्रणी निकायों में कार्यरत उम्दा अभियंताओं/प्रशासकों को उनके अभूतपूर्व सर्वश्रेष्ठ योगदान के लिए ,उनकी हौसला अफ़जाही हेतु उपलब्धि-पुरस्कार दिगम्बर माह के प्रथम सप्ताह में वितरित किए जाएँगे ।

देवेंद्र कुमार शर्मा, अध्यक्ष, हिमाचल प्रदेश विद्युत नियामक आयोग, को भारतीय कंक्रीट संस्थान, शिमला केंद्र द्वारा वर्ष 2021 के लिए *लाइफटाइम उपलब्धि पुरस्कार ट्रॉफी से सम्मानित करने का निर्णय ज्यूरी की सर्वसम्मति से लिया गया है । ज्ञातव्य है कि पिछले वर्षों के आईसीआई 2020 लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार की ट्रॉफी नंद लाल शर्मा, अध्यक्ष, एसजेवीएन, को प्रदान की गई थी।
इससे पूर्व 11 नवंबर को आयोजित वर्चुअल संगोष्ठी में हुई जूरी-सदस्यों ( वैभव गुप्ता अल्ट्राटेक सीमेंट के क्षेत्रीय प्रमुख ,जूरी सदस्य, श्रीराज कुमार वर्मा, सीईओ, साई इंजीनियरिंग एंड फाउंडेशन, अन्य जूरी सदस्य और अधिकारीअल्ट्राटेक सीमेंट, शिमला )की बैठक में कंक्रीट दिवस एवं निर्माण उत्कृष्टता पुरस्कारों की सूची 2021 को अंतिम रूप दिया गया।
वर्ष 2021 के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्मित बुनियादी ढांचा परियोजनाएं श्रेणी के अंतर्गत “एस जे वि एन निगमित मुख्यालय शक्ति-सदन शिमला “ हेतु पुरस्कार-ट्राफ़ी निगम के अध्यक्ष नन्दलाल शर्मा को प्रदान की जाएगी ।इसके साथ साथ “कंकरीट टेक्नोलोगिस्ट अवार्ड “ एवं यंग कंकरीट टेक्नोलोगिस्ट अवार्ड “से क्रमशः एस पी बंसल ,निदेशक सिविल एवं रोशनलाल नेगी एच ओपी लुहरी प्रोजेक्ट को सम्मानित किया जाएगा ।
Ar. वी पी एस जसवाल, अध्यक्ष, भारतीय कंक्रीट संस्थान, शिमला केंद्र, हिमाचल प्रदेश ने अवगत कराया कि उक्त सभी पुरस्कारों का वितरण आगामी 5 दिसंबर, 2021 को होटल मरीना, शिमला में आयोजित किए जाने वाले भव्य समारोह में किया जाएगा ।