मुकेश अग्निहोत्री ने बोला मुख्यमंत्री पर हमला : अनुराग ठाकुर ने खोल दी सरकार के विकास के दाबों की पोल, जनता को जवाब दें जयराम ठाकुर

120

शिमला. विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पर हमला करते हुए कहा कि कल सेंट्रल यूनिवर्सिटी के मुद्दे पर केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने सार्वजनिक मंच से सरकार के विकास के दाबों की पोल खोल दी है। सरकार तीन साल में सेंट्रल यूनिवर्सिटी के नाम जमीन ट्रांसफर नहीं कर सकी है। जिससे लेकर अनुराग ठाकुर ने सीधे मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए हैं। जिससे सार्वजिनक मंच से सरकार के विकास कार्यों के दाबों की पोल खुल गई है। मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री कहते हैं कि विपक्ष के नेता को विकास नजर नहीं आ रहा है लेकिन अब उनकी पार्टी के सांसद और केंद्रीय राज्य मंत्री से विकास को लेकर सरकार के सामने गिड़गिड़ा रहे और अफसरों के सामने हाथ जोड़ने की बात कर रहे हैं। सांसद ने सीधे तौर पर मुख्यमंत्री की कार्यप्रणाली पर ही सवाल उठा दिए हैं जिससे अब मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को जनता को जवाब देना चाहिए कि ऐ कैसा विकास हो रहा है। मुकेश अग्निहोत्री ने केंद्रीय राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जब सेंट्रल यूनिवर्सिटी के नाम जमीन ही नहीं है तो फिर कैसे केंद्रीय मंत्री प्रकाश जाबड़ेकर से शिलान्यास कराया गया। यह शिलान्यास किसकी जमीन पर सरकार ने कर दिया। मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि जनता को गुमराह करने के लिए ही शिलान्यास कराया गया था। अब प्रदेश सरकार की नाकामी सामने आ गई है कि वह तीन वर्ष में सेंट्रल यूनिवर्सिटी के नाम जमीन ही ट्रांसफर नहीं कर पाई है तो निर्माण कब होगा। मुकेश अग्निहोत्री ने अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर भी मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और अनुराग ठाकुर के बीच हुई टकरार का वीडियो शेयर कर टिप्पणी की है कि धीरे धीरे बोल कोई सुन न ले। मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन ने अनुराग ठाकुर को जवाब देते हुए कहा कि सार्वजनिक मंच से ऐसा संदेश नहीं दिया जाना चाहिए कि सरकार के अधिकारी काम नहीं कर रहे हैं। इस पर मुकेश अग्निहोत्री ने मुख्यमंत्री को घेरते हुए लिखा कि धीरे धीरे बोल कोई सुन न ले। इस तरह अब सेंट्रल यूनिवर्सिटी के मुद्दे पर सरकार घिरी नजर आ रही है।

मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि कांगड़ा में सेंट्रल यूनिवर्सिटी पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की देन हैं। लेकिन केंद्र में 6 साल भाजपा की सरकार और प्रदेश में तीन साल से भाजपा की सरकार है लेकिन सेंट्रल यूनिवर्सिटी का कार्य शुरु भी नहीं हो सकता है। प्रदेश सरकार तीन साल में सेंट्रल यूनिवर्सिटी के नाम जमीन तक ट्रांसफर नहीं कर सकी है। मुख्यमंत्री का यह कहना कि यह मेरे समय से पहले का मामला है, पूरी तरह अनुचित है। क्या प्रदेश सरकार का कार्य नहीं है कि पूर्व सरकार के समय शुरु किए गए कार्य को आगे बढ़ाए। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर अपनी नाकामी छिपाने के लिए कह रहे हैं कि यह मेरे समय से पहले का मामला है।